केरल में बोले प्रधानमंत्री मोदी- सबरीमाला पर संस्कृति के साथ खड़ी है बीजेपी


नई दिल्ली:  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को केरल के कोल्लम में सबरीमाला मंदिर के मुद्दे पर कहा कि हमारी पार्टी का रुख हमेशा से साफ रहा है और हमारी पार्टी का काम हमारे शब्दों से मिलता है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी केरल के सबरीमाला मंदिर में 10-50 वर्ष की महिलाओं के प्रवेश का भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और अन्य हिंदू संगठन लगातार विरोध कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने सबरीमाला मुद्दे पर राज्य की लेफ्ट फ्रंट सरकार और कांग्रेस पार्टी को फटकार लगाई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबरीमाला मुद्दे पर केरल की पिनाराई विजयन सरकार पर जमकर हमला बोला है. कोलम में एक जनसभा को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि पूरा देश पिछले कुछ समय से सबरीमाला पर चर्चा कर रहा है. इस मुद्दे पर केरल की एलडीएफ सरकार का आचरण इतिहास में एक बेहद शर्मनाक व्यवहार के तौर पर जाना जाएगा. उन्होंने कहा कि हमें पता था कि वामपंथी भारतीय इतिहास, संस्कृति और आध्यात्मिकता का सम्मान नहीं करते लेकिन किसी ने कल्पना नहीं की होगी कि उन्हें इससे इस कदर नफरत होगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लंबे इंतजार के बार सबरीमाला के ज्वलंत मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि केरल की एलडीएफ सरकार देश की परंपरा, संस्कृति और इतिहास की इज्जत नहीं करती.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि केरल और उसकी संस्कृति की रक्षा के लिए यदि कोई एक दल खड़ा है तो वो भारतीय जनता पार्टी है. उन्होंने कहा कि सबरीमाला मुद्दे पर उनका रुख हमेशा से साफ रहा है और हमारी पार्टी की कार्रवाई हमारे शब्दों से मेल खाती है. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यूडीएफ भी एलडीएफ बेहतर नहीं है. इस मुद्दे पर कांग्रेस राज्य में कुछ और कहती है, तो वहीं संसद में कुछ और. लेकिन उनका दोहरा रवैया अब बेनकाब हो गया है.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमती दे दी थी. जिसके विरोध में केरल के तमाम हिंदूवादी दल सड़क उतर आए. महिलाओं का प्रवेश रोकने के लिए राज्य में कई जगहों पर हिंसा भी हुई. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने इस विरोध में अग्रणी भूमिका निभाई थी. जिसके चलते बीजेपी के कई कार्यकर्ताओं पर प्रशासनिक कार्रवाई भी हुई.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह ख़बरें पढ़ना ना भूलें!!