दमोह के दौरे में जोश जगा गये सुनील लोधी


दमोह के दौरे में जोश जगा गये सुनील लोधी

दमोह। आरक्षण के मुद्दै पर शहर में भी धीरे-धीरे हलचल शुरू हो गई है, उत्तर प्रदेश से देश भर के दौरे पर निकले सुनील लोधी ने आरक्षण आंदोलन के लिए शहर कलेक्टोरेट के समीप महाराणा प्रताप चौक पर आयोजित विशाल धरने में भाग लेने के बाद पिछडे नौजवानों से मिलकर संघर्ष की रुपरेखा तैयार की। एक जान डाल कर लोटे। दस प्रतिशत आरक्षण सवर्णों को सरकार ने दिया है तब से सुनील लोधी ने 54 प्रतिशत की आवाज को पिछडों के हक के लिऐ बुलंद किया है। लोधी सभी राज्यों के दौरे कर पिछडों के लिऐ आरक्षण की मांग को तेज करने में त्वरित गति देने में सफल हो रहे हैं । लोधी ने बताया कि उन्होंने पिछडों को जगाने का कार्य किया है। उनका मानना है कि अब पिछडे कहने लगे हैं कि मंदिर तभी बनेगा तब तक 54 प्रतिशत नहीं मिलेगा क्योंकि मंदिर से जो फायदा होगा वो सिर्फ व सिर्फ मनुवादियों को होगा, पिछडों को इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है। यदि मंडल आयोग की सभी सिफारिशें प्रभावी होती हैं तो नौजवानों को दो करोड नौकरियों में तुरंत फायदा हो जायेगा और वेरोजगारी कहीं हद तक कम हो जायेगी जो आज की पिछडे युवाओं की जरूरत है। न्तर्राष्ट्रीय लोधी महा सभा ट्रस्ट के अध्यक्ष व देश के प्रसिद्ध प्रौद्यौगिक सुनील लोधी मानते हैं कि बीजेपी सरकार ने संबिधान परिवर्तन का जो फैसला लिया है वह जल्दवाजी में लिया फैसला पिछडों व दलितों के लिऐ बहुत हानिकारक होगा और जब पिछडों को समझ में आयेगा तब पार्टी से नफरत करेंगे अत इसे बापिस ले लेना चाहिए। लोधी कहते हैं कि सरकार को चाहिऐ कि पहले वो जनसंख्या को बताऐ और जनसंख्या के हिसाब से आरक्षण कर दिया जाऐ यानि जिसकी जितनी संख्या भारी, उसको दे दो उतनी जिम्मैदारी। मंडल आयोग के अनुसार 52 प्रतिशत आरक्षण दिया जाना था लेकिन सवर्डों की चालवाजी से मात्र 27 प्रतिशत ही आरक्षण देश में हो पाया जिसे अब 54 प्रतिशत किया जाना नितांत जरूरी है क्योंकि आजादी के सत्तर साल बाद भी केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में एक भी पिछडे वर्ग का प्रौफेसर न बन पाना दुखद है। जिसके पीछे सवर्डों की लोवी है जो पिछडों व दलितों का हक नहीं चाहती कि उन्हैं मिले। सुनील लोधी मध्यप्रदेश के कई जिलों में धरना देने के लिऐ निकलें हैं ताकि सरकार को समय रहते समझ में आ जाये कि आरक्षण पिछडों के स्तर को उठाने के लिऐ अति आवश्यक है। सुनील लोधी दो दिवसीय सागर संभाग के दौरे पर युवाओं में जोश के साथ लम्बी लडाई के तोर तरीके भी बता के गये हैं जिससे क्षेत्रीय युवा अब आंदोलन को त्वरित गति देंगे। धरने पर सुनील लोधी के साथ कांग्रैस के प्रदेश उपाध्यक्ष तिलक सिंह लोधी, संत बहादुर सिंह लोधी, पिछडा वर्ग पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य पूरनसिंह लोधी, पुरूषोत्तम पटेल, राजू गौड, राकेश कुशवाह, मो सकील आदि उपस्थित थे।

दमोह से मोन्टी रैकवार प्रधान संपादक की कलम से खास रिपोर्ट


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यह ख़बरें पढ़ना ना भूलें!!